Jan 13, 2016

चलो फिर से शुरुआत करते है

चलो फिर से शुरुआत करते है, memory को delete करके एक दूसरे को चलो माफ़ करते है,
चलो फिर से शुरुआत करते है........... 

क्या मैंने कहा , क्या तुमने कहा ये भूलकर जो न कभी कहा आज उस बात से मुलाकात करते है,
चलो फिर से शुरुआत करते है

 थोड़ी कमी मुझमे कही, थोड़ी कमी तुममे कही, चलो आज एक दूसरे की खूबियों को याद करते है,
चलो फिर से शुरूआत करते है 

 वक़्त थोड़ा झगडे बड़े है, झगड़ो को छोटा कर साथ बिताये अच्छे  वक़्त का चलो हिसाब करते है,
चलो फिर से शुरुआत करते है........ 

घर कर गयी जो दिल में है, गहरी जमी उस नफ़रत को अब बस साफ़ करते है,
चलो फिर से शुरुआत करते है............ 

तुम खड़े हो दूर की मैं चलू , मैं खड़ी दूर की तुम चलो, फासलो को मिलकर चलो आज साथ भरते है,
चलो फिर से शुरुआत करते है........ 

कभी बंधे थे जो प्यार में  वो हम ही थे, चलो हो जाए अजनबी और फिर से एक दूसरे से प्यार करते है,
चलो ना फिर से शुरुआत करते  है..... 

3 comments:

  1. भावनाओं की शब्दों में ये अभिव्यक्ति अद्भुत है।

    ReplyDelete
  2. Best one..heart touching..keep it up 👍🏻

    ReplyDelete