Apr 24, 2010

मेरा भाई


This poem is for my brother "Rajat"


लड़ना, झगड़ना और अकड़ना बस यही था एक रिश्ता प्यारा,

कभी लूडो तो कभी विडिओ गेम बनता युद्ध क्षेत्र हमारा,

वो बाल खीचता मेरे, मैं पैर से मारा करती थी,

लड़ती भी थी उसीके साथ, साथ उसीके हँसती थी,

हारने लगती जब मैं पापा से शिकायत करती थी,

पड़ती थी जब उसको मार साथ में मैं भी रोया करती थी,

माँ जो करती उसका ज्यादा लाड कितना मैं चिढा करती थी,

उसकी जितनी height पाने के लिए दरवाजे से लटका करती थी,

मैं उसके साथ क्रिकेट , वो मेरे साथ घर-घर खेला करता था,

कभी भाई तो कभी उसमे दोस्त मिला करता था,

आज भी बचपन मेरा उसके आगे जी उठता है,

इस मतलब की दुनिया में , निस्वार्थ प्यार ही उससे मिलता है,

चपत मरता है कभी, कभी है पोछे आंसू उसका हाथ,

पास मेरे एक ऐसा रिश्ता जो नहीं है बदला वक़्त के साथ...............

supriya.........

11 comments:

  1. bahut acchi hai,aise hi likhte raho.

    ReplyDelete
  2. thanks pankaj for reading and commenting regularly. it helps in improvement.

    ReplyDelete
  3. लड़ते रहें प्यार से यूँ ही भाई-बहिना प्यारी
    बुरी नजर ना लगे वक्त की ये कामना हमारी
    सच्ची और अच्छी सोच - हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  4. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  5. हर रंग को आपने बहुत ही सुन्‍दर शब्‍दों में पिरोया है, बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  6. एक भाई को बहन का सच्चा प्यार दिखाती है ये कविता बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  7. hummmmm bahut sundar or saral abhivyakti hai !
    likhte rahen ...Jai HO Mangalmay HO

    ReplyDelete
  8. हिंदी ब्लाग लेखन के लिए स्वागत और बधाई
    कृपया अन्य ब्लॉगों को भी पढें और अपनी बहुमूल्य टिप्पणियां देनें का कष्ट करें

    ReplyDelete
  9. कली बेंच देगें चमन बेंच देगें,

    धरा बेंच देगें गगन बेंच देगें,

    कलम के पुजारी अगर सो गये तो

    ये धन के पुजारी वतन बेंच देगें।

    हिंदी चिट्ठाकारी की सरस और रहस्यमई दुनिया में राज-समाज और जन की आवाज "जनोक्ति "आपके इस सुन्दर चिट्ठे का स्वागत करता है . . चिट्ठे की सार्थकता को बनाये रखें . नीचे लिंक दिए गये हैं . http://www.janokti.com/ , साथ हीं जनोक्ति द्वारा संचालित एग्रीगेटर " ब्लॉग समाचार " http://janokti.feedcluster.com/ से भी अपने ब्लॉग को अवश्य जोड़ें .

    ReplyDelete